Articles

Quora क्या है और इसका इस्तेमाल कैसे करें पूरी जानकारी हिंदी में

यदि आप ज्ञान प्राप्त करने के साथ-साथ ज्ञान बांटना भी चाहते हैं. तो Quora (quora.com) वेबसाईट इस कार्य में आपकी मदद कर सकती हैं.

इस लेख में हम आपको कोरा वेबसाईट के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं. अध्ययन की सुविधा के लिए हमने इस लेख को निम्न भागों में बांटा हैं.


कोरा क्या हैं – Quora in Hindi?

कोरा एक ऑनलाईन सवाल-जवाब मंच हैं. जहाँ पर लोग सवाल पूछ सकते है, जवाब दे सकते है तथा प्रशनों एवं जवाबों को संपादित भी कर सकते हैं. यह चर्चा का सामाजिक मंच हैं जहाँ पर दुनिया भर के लोग किसी भी सवाल/मुद्दे पर खुली चर्चा कर सकते हैं.

कोरा के अनुसार,

“Quora का मिशन है दुनिया में फैले ज्ञान को बांटना और बढ़ाना. इस ज्ञान का एक बड़ा हिस्सा फिलहाल सिर्फ कुछ ही लोगों के पास उपलब्ध है—या तो यह ज्ञान उन लोगों के दिमाग में बंद है या फिर कुछ खास लोगों की ही उस तक पहुंच है. जबकि यह ज्ञान दूसरों के लिए भी मूल्यवान हो सकता है. हम उन लोगों को जोड़ना चाहते हैं जिनके पास ज्ञान है और जिन्हे उसकी जरूरत है, अलग-अलग नज़रिये के लोगों को एक साथ पर लाना चाहते हैं ताकि वे एक-दूसरे को बेहतर समझ सकें और सभी सशक्त होकर अपना ज्ञान पूरी दुनिया की भलाई के लिए बांटें.”

Quora शब्द की उत्पति के बारे में दो मतो पर चर्चा रहती हैं. जिनमे से पहला तो खुद कोरा के संस्थापक द्वारा बताया गया है. और दूसरा खुद लोगों द्वारा उत्पन्न किया गया है.

पहले मत के अनुसार कोरा शब्द Quorum से लिया गया है. जिसका मतलब होता है, “चर्चा का ऐसा मंच जहाँ पर लोग एकत्रित होकर विचार-विमर्श करते है और एक मत बनाते हैं.

दूसरे मत के अनुसार कोरा शब्द Qu जो Question से लिया गया है A जो Answer का प्रतिनिधित्व करता हैं. तथा or इन दोनों को आपस में जोडता है. इस प्रकार Quora का पूरा नाम Questions or Answers यानि सवाल और जवाब हैं.

कोरा वेबसाईट को आम लोगों के लिए 21 जून 2010 को शुरु किया गया था. मगर इसका संचालन करने वाली इसकी कंपनी Quora Inc. की स्थापना जून 2009 में हो चुकी थी. कोरा की स्थापना फेसबुक के पूर्व कर्मचारी Adam D’Angelo एवं Charlie Cheever द्वारा की गई थी.


कोरा की विशेषताएं कुछ मुख्य फीचर

कोरा एक साझा मंच हैं. इसलिए वास्तविक लोगों की पहचान के लिए कोरा का उपयोग करने के लिए युजर को कोरा अकाउंट बनाना पडता हैं. जिसके लिए आप ईमेल आईडी और पासवर्ड के द्वारा कोरा पर रजिस्ट्रेशन कर सकते है. या आप Open ID Protocol के तहत फेसबुक अकाउंट एवं गूगल अकाउंट से भी रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं. तभी आप कोरा के द्वारा विकसित किए गए सभी सुविधाओं का लाभ ले सकते हैं.

1. सवाल पूछना-जवाब देना – Asking Questions and Answering

इसके लिए तो कोरा का जन्म ही हुआ है. आप यहाँ पर अपने मन में आने वाले किसी भी विषय से संबंधित सवाल पूछ सकते हैं. और जवाब पा सकते हैं. यदि आपको किसी सवाल का जवाब आता हैं तो उसका जवाब भी दे सकते हैं.

2. इनबॉक्स – Inbox

इस फीचर द्वारा आप कोरा पर दूसरे लोगों से सीधे व्यक्तिगत चैट कर सकते हैं. यह बिल्कुल अन्य सोशल नेटवर्किंग साईट की तरह काम करता हैं.

3. लाईक & डिसलाईक करना – Like & Dislike Content

Quora पर यूजर किसी लेख की उपयोगिता तथा गुणवत्ता के आधार पर उसे पसंद या नपसंद भी कर सकता हैं. यदि यूजर को लेख पसंद आता है तो वह उसे Upvote कर सकता हैं. तथा नापसंद आने पर Downvote कर सकता हैं. इस फीचर की मदद से सवालों की गुणवाता बरकरार रहती है. जिससे यह जवाब अन्य युजर को भी सुझाया जा सकता हैं.

3. संपादन करना – Editing

कोई भी कोरा युजर किसी भी सवाल को संपादित करने के लिए स्वतंत्र होता हैं. वह उसे संपादित करने के लिए अपनी राय दे सकता हैं. तथा अपने सुझाव भी सुझा सकता हैं.

4. रिपोर्ट करना – Reporting

यदि किसी सवाल या उपलब्ध लेख से आपको किसी भी प्रकार की आपत्ती है तो इसके खिलाप आप कोरा पर रिपोर्ट भी कर सकते हैं.

5. शीर्ष लेखक कार्यक्रम – Top Writes Program

साल 2012 में कोरा ने “शीर्ष लेखक कार्यक्रम” की शुरुआत की. जिसके तहत हर साल उन 150 मुख्य लेखकों को सम्मानित किया जाता हैं, जिन्होने सालभर अपने बेहतरीन लेखन से लोगों को प्रभावित किया. इस प्रकार कोरा एक तरफ ज्ञान एवं सूचना प्राप्त करने का एक मंच है वहीं यह दुनियाभर में मौजूद प्रतिभाशाली लेखकों को भी उजागर कर रही हैं.

6. कोरा मीटप – Quora World Meetup

कोरा दवारा अपनी कामयाबी का जश्न मनाने के लिए सन 2017 से कोरा वर्ल्ड मीटअप की शुरुआत की गई. जिसका मकसद पाठक तथा लेखकों को एक मंच पर लाकर आपस मे मिलाना है और साथ में मजे करना है.

7. सर्च – Search

आप कोरा के सर्च फीचर द्वारा सवाल और जवाब भी ढूँढ सकते है. सर्च करने पर आपको जल्दी और संबंधित जानकारी मिल जाती हैं.

8. कोरा ब्लॉगिंग फीचर – Quora Blogging

साल 2013 में कोर नें लेखकों को अपनी राय पोस्ट के रूप में प्रकाशित करने के लिए ब्लॉगिंग फीचर भी जोड दिया. यदि आपको लिखने का शौक है तो आप कोरा पर ब्लॉगिंग भी कर सकते हैं. और अपने शब्दों को लोगों तक पहुँचा सकते हैं.


कोरा का इस्तेमाल कैसे करें – How to Use Quora?

कोरा का उपयोग आप अन्य वेबसाईट की तरह ही कर सकते हैं. जिसके लिए कोरा के माध्यम है.

  1. Quora Website
  2. Quora Apps

कोरा वेबसाईट पर जाकर आप कोरा का उपयोग अपने कम्प्युटर या स्मार्टॅफोन से कर सकते हैं. और अपनी शंका का समाधान ढूँढ सकते हैं. और अन्य लोगों की मदद भी कर सकते हैं. कोरा के सभी फीचर का इस्तेमाल करने के लिए आपको पंजीकरण करना अनिवार्य हैं.

कोरा एप्स मोबाईल के लिए उपलब्ध है जिसे इन्स्टॉल करके आप सीधे कोरा का उपयोग कर सकते हैं. अब आपको बार-बार कोरा वेबसाईट पर जाने की कोई जरूरत नही पडती हैं.


कोरा अकाउंट कैसे बनाये – How to Create Quora Account in Hindi?

Step: #1

सबसे पहले कोरा वेबसाईट पर जाएं. या फिर आप नीचे बने बटन पर क्लिक कर सकते हैं.

Step: #2

अब आपके सामने कोरा Log in पेज खुल जाएगा. यहाँ पर आप अपने ईमेल तथा पासवर्ड के द्वारा कोरा अकाउंट बना सकते हैं. इसके अलावा आप गूगल अकाउंट या फिर फेसबुक अकाउंट का भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

Step: #3

अब आपसे आपकी रुची के अनुसार कुछ टॉपिक चुनवाए जाएंग़े. जिन्हे आप उपलब्ध विषयों से एक क्लिक करके चुन सकते हैं.

Step: #4

इसके बाद आपकी कोरा प्रोफाईल बनकर तैयार हो जाएगी. यहाँ एक बात का ध्यान रखे. कोरा प्रोफाईल बनाते समय अपना वस्तविक नाम का ही उपयोग करें. अगर आप अन्य नाम से कोरा का इस्तेमाल करते पकडे जाएंगे तो आपका अकाउंट बैन कर दिया जाएगा.


कोरा का इतिहास – Quora History in Hindi

Quora.com को फेसबुक के भूतपूर्व कर्मचारी ऐडम डी’ एंजेलो तथा चार्ली चीवर द्वारा शुरु किया गया था. यह एक अमेरिकी वेबसाईट है. जिसका मुख्यालय कैलिफोर्निया में स्थित है. इसे Quora Inc. द्वारा संचालित किया जाता हैं.

कोरा इस समय अंग्रेजी के अलावा हिंदी के साथ फ्रेंच, जर्मन, बंगाली, इंडोनेशियन, इटालियन, जापानि, पुर्तगाली, स्पैनिश, नॉर्वियन, फिन्निश, मराठी, डच, तमिल, स्वेडिश, डेनिश भाषाओं में भी उपलब्ध हैं.

साल 2011 में कोरा वेबसाईट को नया डिजाईन दिया गया तथा बेहतर उपयोगिता की ओर कार्य किया गया. 2012 में iOS तथा  Android के लिए मोबाईल एप विकसित किया गया. तथा 2013 में ब्लॉगिंग फीचर शुरु किया गया. ताकि लोग कोरा पर ब्लॉगिंग भी कर सके.

अब कोरा पर प्रकाशित पोस्ट को कितने लोगों ने देखा, फॉलो किया, शेयर किया आदि आंकडे भी दिखाए जाते है.


आपने क्या सीखा?

इस लेख में हमने आपको कोरा वेबसाईट के बारे में पूरी जानकारी दी हैं. आपने जाना कि कोरा क्या है, कोरा का इस्तेमाल कैसे करते है, कोरा की मुख्य विशेषताएं इत्यादि. हमे उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित होगा.

और इस लेख को अपने दोस्तों के साथ शेयर करके उन्हे भी कोरा वेबसाईट से अवगत कराएं ताकि वे भी इसका उपयोग अपने ज्ञान को बढाने तथा बांटने के लिए कर सके.

#BeDigital

6 Comments

  • सर ,आपके लिखने और समझाने का तरीका बहुत ही अलग है जो आपके कंटेंट को बेहतरीन बनाता है

Leave a Comment